• Tue. Sep 27th, 2022

The Uk Pedia

We Belive in Trust 🙏

कभी पेड़ में तो कभी छत पर आराम फरमाता दिख रहा गुलदार, जानवरों को बना रहा निवाला, क्या अब इंसान की बारी, कार्यवाही की मांग

Bytheukpedia

Jun 29, 2022
श्रीनगर में दिखा गुलदार
Spread the love

मनोज उनियाल
श्रीनगर। नगर क्षेत्र में गुलदार की बढ़ती चहलकदमी से शहरवासी खौफ में हैं। गुलदार हर दिन शहर में कहीं न कहीं दिखाई दे रहा है। स्थानीय लोगों ने वन विभाग से उचित कार्यवाही कर गुलदार के भय से निजात दिलाने की मांग की है। बुधवार तड़के बद्रीनाथ राजमार्ग पर स्थित पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष मोहन लाल जैन के घर की छत पर गुलदार लेटा मिला। गुलदार को देखते ही स्थानीय लोगों के हाथ-पांव फूल गये। मौके पर मौजूद पूर्व पालिका अध्यक्ष मोहन लाल जैन ने बताया कि छत पर बैठा गुलदार शोर मचाने के बाद यहॉ से भागा। लेकिन स्थानीय निवासियों में भय का माहौल है। कहा कि इस सम्बन्ध में उन्होंने उप जिलाधिकारी को ज्ञापन भेजा है। साथ ही गुलदार के भय से निजात दिलाने की मांग की है।

कहा कि घर के आसपास कई लोग बच्चों के साथ रहते हैं। गुलदार के कारण भय का वतावरण बना हुआ है। गुलदार कभी भी किसी बड़ी घटना को अंजाम दे सकता है। उन्होंने प्रशासन से जल्द गुलदार को पकड़ने के लिए उचित कार्यवाही की मांग की है।

कुछ दिन पूर्व कमलेक्ष्वर गली में दिखा गुलदार
कुछ दिन पूर्व कमलेक्ष्वर गली में दिखा गुलदार

बता दें कि बीते एक सप्ताह में गुलदार नगर क्षेत्र के विभिन्न स्थानों पर चहलकदमी करते हुये दिखाई दिया है। बीते 21 जून को गुलदार जहॉ चुंगी के समीप एक पेड़ पर चढा दिखाई दिया तो वहीं 25 जून को देर रात कमलेश्वर मौहल्ले में गुलदार की चहकदमी देखी गई। वहीं बीते 27 जून को हाईडिल कालोनी के आसपास गुलदार आधी रात को देखा गया। जिसके 29 जून यानी आज एक बार फिर गुलदार छत पर आराम फरमाता देखा गया है। गुलदार के इस तरह आवासीय बस्तियों में चहलकदमी से स्थानीय लोगों में व मॉर्निंग वॉक करने वालों में भय का माहौल बना हुआ है। वहीं गुलदार क्यूं आवासीय बस्तियों में सक्रिय बना हुआ है…? इसे लेकर भी लोग अपने अलग-अलग तर्क देने में लगे हुये है। कोई गुलदार के सक्रिय होने का कारण जंगलों में लगी आग को बता रहा है, तो कोई इस गुलदार के परिजनों से बिछड़ने को वजह बता रहा है। बहरहाल स्थानीय लोगों की मांग है कि वन विभाग नगर क्षेत्र में पिंजरे लगाये जिसमें की गुलदार कैद हो सके ओर उसे किसी सुरक्षित स्थान पर छोड़ा जाये।