• Tue. Sep 27th, 2022

The Uk Pedia

We Belive in Trust 🙏

अस्पताल के बाथरूम में नाबालिग ने बच्चे को दिया जन्म, जच्चा-बच्चा की मौत, डाक्टरों को लड़की के गर्भवती होने की भनक तक नहीं।

Bytheukpedia

Jul 23, 2022
अस्पताल के बाथरूम में नाबालिग ने बच्चे को दिया जन्म, जच्चा-बच्चा की मौत, डाक्टरों को लड़की के गर्भवती होने की भनक तक नहीं।
Spread the love

अस्पताल के बाथरूम में नाबालिग ने बच्चे को दिया जन्म

जच्चा-बच्चा की मौत,

डाक्टरों को लड़की के गर्भवती होने की भनक तक नहीं।

रूद्रप्रयाग से एक दिल दहला देने वाली खबर सामने आ रही है। यहॉ एक नाबालिग लड़की ने एक बच्चे को जन्म दिया है। लेकिन बच्चे को जन्म देने के बाद न तो लडकी बच पाई और न ही नवजात।
घटना रूद्रप्रयाग जिला अस्पताल की है। यहॉ गुडिया (काल्पनिक नाम) व उसकी मॉ पेट दर्द की षिकायत लेकर पहुॅची थी। डॉक्टरों नें गुड़िया की जॉच की। इस दौरान लड़की की मॉ ने डॉक्टरों से उसके गर्भवती होने की बात भी छुपा कर रखी। बड़ी बात यह है कि एमबीबीएस करने कई वर्शो की मेडिकल की पढाई करने के बाद बने डाक्टरों ने भी पेट दर्द की षिकायत लेकर अस्पताल पहुॅची नौ माह की गर्भवती गुडिया को पहचान नहीं पाये कि वह गर्भवती है व प्रसव पीड़ा से जूझ रही है। वहीं जब गुडिया को प्रसव पीड़ा उठी तो गुडिया की मॉ गुडिया को अस्पताल के बाथरूम में ले गई। यहॉ प्रसव पीड़ा से जूझ रही गुडिया की डिलवरी चुपके से उसकी मॉ द्वारा ही करा लिया गया। लेकिन प्रसव ठीक तरीके से न होने के कारण न तो जच्चा बच पाया और न ही बच्चा। वहीं गुडिया की मॉ ने नवजात की मौत भी सबसे छुपाकर रखी। जब सुबह सफाईकर्मी अस्पताल के बाथरूम में पहुॅचे तो वहॉ मृत नवजात की भनक लगी।

उक्त प्रक्रण से यह साफ हो जाता है कि आज भी रूढिवादी सोच कहीं न कहीं ग्रामीण क्षेत्रों में हावी है। वहीं जन-जागरूकता व बच्चों में इस तरह के विशय को लेकर चर्चा होनी बेहद आवष्यक है। वहीं सवाल जिला अस्पताल के डाक्टरों पर भी उठता है कि आखिर कैसे उन्होनें प्रसाव पीड़ा से जूझ रही नाबालिग लड़की को पहचान नहीं पाये। जबकि नाबालिग नौ महीने की गर्भवती थी। क्यूंकि एक नाबालिग गर्भवती लडकी की मौत का मामला है लिहाजा इस पर उच्च स्तरीय जॉच होनी बेहद आवष्यक है।