• Sat. Dec 10th, 2022

The Uk Pedia

We Belive in Trust 🙏

2011 में तैनात था स्वयं सेवक, भाई के अध्यक्ष बनते ही बना लिपिक, अध्यक्ष ने किया अपने भाई की वेतन में बेतहाशा वृद्धि

Bytheukpedia

Sep 25, 2022
Spread the love
मंदिर समिति में नियम विरूद्ध प्रमोशनों व वेतन वृद्धि पर रार
अध्यक्ष ने किया अपने भाई की वेतन में बेतहाशा वृद्धि
पुराने कर्मचारियों को दरकिनार कर रसूखदार अपने रिश्तेदारों को पहुंचा रहे लाभ: सूरज
रुद्रप्रयाग। बद्री-केदार मंदिर समिति में बैकडोर से हो रहे नियम विरूद्ध प्रमोशन और वेतन वृद्धि के मामलों पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने कड़ी आपत्ति जाहिर की है। कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता सूरज नेगी ने े कहा कि मंदिर समिति में इस प्रकार से भ्रष्टाचार करना नियमों का खुलेआम उल्लंघन करना, आपराधिक मामला है। समिति में अपने रिश्तेदारों को भाजपा नेता मनमाना पद बांट रहे हैं और शासन व सरकार चैन की नींद सोयी है।
कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता सूरज नेगी ने कहा कि इस प्रकार बैकडोर से गैर कानूनी तरीके से मंदिर समिति प्रमोशन और वेतन वृद्धि कर अपने रिश्तेदारों व चहेतों को लाभ दिया जा रहा है, जिससे मंदिर समिति में वर्षो से कार्य करने वाले वरिष्ठ कार्मिकों का मनोबल भी गिरता जा रहा है। भाजपा राज में इस तरह के हथकंडे अपनाए जा रहे हैं, जो किसी के भी गले नहीं उतर सकते हैं। आखिर कैसे इस प्रकार की गड़बड़ियों को अंजाम दिया जा रहा है, यह एक चिंता का विषय है।
उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार में रसूखदार व ऊंची पहुंच रखने वाले किस प्रकार असंवैधानिक तरीके से कामयाबी की सीढ़ी पार करते हैं, उसका जीता जागता नमूना मंदिर समिति है। जिसमें बद्री-केदार मंदिर समिति का अध्यक्ष सारे नियम कानूनों को ताक पर रखकर अपने भाई को स्वयं सेवक से लिपिक वर्ग में शामिल करने के लिए, सबकी अनदेखी करता है और इस गड़बड़ झाले में समिति में नियुक्त अधिकारी व कर्मचारी अपने स्वार्थो के लिए इस कारनामे को अंजाम दे डालते हैं।
कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के स्वायत्त संस्था है, जो दानी दाताओं के पैंसो चलती है। लेकिन दुर्भाग्य है कि सरकार के प्रतिनिधि उस पैंसे को ठिकाने लगाने के लिए लाभार्थी के रूप में अपने रिश्तेदारों का वेतन बढ़ाकर अपने पुरस्कृत कर रहे हैं। फिर चाहे वे उस पद के योग्य हों या ना हों। इस बात की उन्हें कोई फिक्र नहीं है। उन्होंने कहा कि बद्री-केदार मंदिर समिति के अध्यक्ष का भाई वर्ष 2011 में स्वयं सेवक के रूप में समिति में लगा था, जो कि 14,203 रूपए के वेतन पर 14 मई 2022 से पूर्व तैनात था। उनके भाई के अध्यक्ष बनने के बाद अचानक उनको स्वयं सेवक से लिपिक वर्ग में प्रमोशन कर वेतन 22,770 करने का अनुमोदन अध्यक्ष द्वारा किया गया। आखिर इसमें कौन सी प्रक्रिया अपनाई गई है। यह समिति में तैनात पुराने कर्मचारी व जनता जानना चाहती है।
वहीं भाजपा जिला प्रभारी एवं पूर्व जिलाध्यक्ष विजय कप्रवाण का कहना है कि कांग्रेस का काम आरोप लगाने का है। जब कांग्रेस सरकार में मंदिर समिति का अध्यक्ष रहा, उस दौरान कोई भी कार्य नहीं हुए। आज मंदिर समिति में अच्छे कार्य हो रहे हैं। बोर्ड की ओर से उन कर्मचारियों की पदोनतियां की गई हैं, जो वर्षो से मंदिर समिति में सेवाएं देते आ रहे हैं। इन कर्मचारियों को पदोनति देकर मंदिर समिति ने इनकी वर्षो की सेवाओं का फल उन्हें दिया है।
बहरहाल, प्रदेश में यूके ट्रिपल एससी, विधानसभा के साथ ही सहकारिता में भर्ती घोटालों को लेकर बेरोजगार नौजवान सड़कों में हैं। सरकार में बैठे मंत्रियों ने गलत तरीके से अपने चहेतों को नौकरी देकर उन युवाओं की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है, जो लम्बे समय से इन नौकरियों की तैयारियां कर रहे थे। इन भर्ती घोटालों के बाद अब कांग्रेस ने बद्री-केदार मंदिर समिति में फर्जी तरीके से पदोनतियां और अपने रिश्तेदारों की बेतहाशा वेतन वृद्धि करने का आरोप लगाया है। ऐसे में देखने वाली बात यह होगी कि सीएम धामी इस मामले में कब तक एक्शन लेती है।